इस लेख के माध्यम से आपको वायुमंडल (Atmosphere) के विषय में एक सामान्य अथवा मूलभूत जानकारी  (Basic Information) दी गई है। जिससे आपके अंदर वायुमंडल (Atmosphere) के विषय में एक सामान्य समझ (Basic Understanding) विकसित हो सकेगी। हमें उम्मीद है कि आपको यह लेख (What is the Atmosphere, composition and their layers/structure) पसंद आएगा।

What is the Atmosphere? Layers, Composition, Particles, Facts in Detail in Hindi


वायुमंडल क्या है? (What is the Atmosphere?)

वायुमंडल वह क्षेत्र है, जहां वायु है, जहां धूल के कण, जलवाष्प तथा गैस इत्यादि उपलब्ध हैं।

पृथ्वी की सतह के ऊपर जो कुछ भी है, जिसका कोई आधार पृथ्वी पर नहीं है, वायुमंडल कहलाता है। यह पृथ्वी को चारों ओर से घेरे हुए हैं।

Read More :- Rocks ! Types of Rocks: Igneous, Sedimentary, Metamorphic

वायुमंडल के संघटक (Composition of Atmosphere)

वायुमंडल में नाइट्रोजन सर्वाधिक पाई जाने वाली गैस है, जिसकी मात्रा लगभग 78% है।

    • Nitrogen (N2) – 78% (सर्वाधिक)
    • Oxygen (O2) – 95%
    • Argon Gas (Ar) – 93%
    • Carbon dioxide (CO2) – 036%
    • Hydrogen (H) – 00005%
    • Other gases – Neon (Ne), Helium (He), Krypton (kr), Xenon (Xe)
नोट :-
  • पृथ्वी के धरातल से लगभग 32 किलोमीटर तक सभी गैस पाई जाती हैं।
  • पृथ्वी के धरासन से लगभग 90 किलोमीटर तक CO2 और जलवाष्प कें कण पाए जाते हैं।

The Drainage System of India, Indian River System In Hindi

जलवाष्प और धूल के कण (Water Vapor and Dust Particles)

जलवाष्प का अर्थ है – 

जल से पैदा हुई वाष्प। जिसका मुख्य कारण तापमान (Temperature) है।

जैसे-जैसे हम ‘निम्न अक्षांशों से उच्च अक्षांश’ (Latitudes) की तरफ जाने हैं और ‘समुद्र तल से ऊंचाई’ (Altitudes) की तरफ जाने लगते हैं, तो तापमान में गिरावट आने लगती है।

धूल के कण (Dust Particles) :-

धूल के कण, जो वायु के साथ मौजूद रहते हैं, जमीन पर नहीं रहते तथा वायुमंडल में व्याप्त रहते हैं। उनका भार (Weight) कुछ इस तरीके का है कि वे वायुमंडल में बने रहते हैं।

नोट :-

  • गुरुत्वाकर्षण शक्ति के कारण ही वायु हमारे चारों तरफ मौजूद रहती है।
  • धूल में मिट्टी के कण, नमक के कण, धुआँ, राख, पराग के कण आदि पाए जाते हैं।
  • यह उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में सबसे ज्यादा होगी।

इतना समझने के बाद हम बात करते हैं वायुमंडल के संरचना की।

Give an Account of the Northern Plains of India ! Point by Point

What-is-the-Atmosphere-and-their-layers-

वायुमंडल की संरचना (Layers/Structure of The Atmosphere)

वायुमंडल (Atmosphere) को मुख्यतः पांच भागों में विभाजित किया गया है।

  1. क्षोभ मंडल (Troposphere)
  2. समताप मंडल (Stratosphere)
  3. मध्यमंडल (Mesosphere)
  4. तापमण्डल (Thermosphere) / आयनमंडल (Ionosphere)
  5. बहिर्मंडल (Exosphere)
Read More :-प्रकृति के सिद्धांत और धर्म एवं परंपराएं (Principles of Nature and Religions and Traditions
  1. क्षोभ मंडल (Troposphere) :-

    • क्षोभ मंडल (Troposphere) पृथ्वी की सतह से लगभग 13/14 किलोमीटर की ऊंचाई तक फैला हुआ है।
    • मौसम संबंधी अधिकांश घटनाएं जैसे आंधी, तूफान, बारिश आदि क्षोभ मंडल में ही होती है।
  1. समताप मंडल (Stratosphere) :-

    • समताप मंडल (Stratosphere) पृथ्वी की सतह से लगभग 13 से 50 किलोमीटर तक फैला हुआ है।
    • इस मंडल में बढ़ती हुई ऊंचाई के साथ – साथ तापमान में वृद्धि होने लगती है।
    • ओजोन (O3) परत इसी मंडल में पाई जाती है।
    • इस मंडल में जलवाष्प और धूल के कण ना बराबर होते हैं।
    • मौसम के साफ होने के कारण इस मंडल को जहाजों अथवा जेट स्ट्रीम के लिए उपयुक्त माना जाता है।

Meaning of Monarchy, Dictatorship and Communism System in Hindi

  1. मध्यमंडल (Mesosphere) :-

    • मध्य मंडल (Mesosphere) पृथ्वी की सतह से लगभग 50 किलोमीटर से 80 किलोमीटर तक की ऊंचाई तक पाया जाता है।
    • सबसे कम तापमान इसी मंडल में पाया जाता है।
    • किस मंडल में तापमान में कमी आने लग जाती है यहां तक कि 80 किलोमीटर तक आते – आते तापमान (Temperature) – 100 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है।
  1. तापमण्डल (Thermosphere) / आयनमंडल (Ionosphere)

    • तापमण्डल (Thermosphere) को आयन मंडल ((Ionosphere)) भी कहा जाता है।
    • इसकी ऊंचाई पृथ्वी से लगभग 80 से 350/400 किलोमीटर है।
    • इस मंडल में वायु का घनत्व बहुत ज्यादा कम है।
    • इस मंडल में तापमान का बढ़ना चालू हो जाता है।
    • तापमंडल में लोहे के कण अधिक पाई जाती है।
    • पृथ्वी पर आने वाली रेडियो तरंगे इसी मंडल से आती है।

Read More :- Major Information of Northern Plains of India ! Point by Point

  1. बहिर्मंडल (Exosphere)

कुछ लोग इस मंडल को पृथ्वी की धरातल से 350 किलोमीटर से 1000 किलोमीटर या 1600 किलोमीटर तक मानते हैं। अभी तक इस मंडल के विषय में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है।

इस लेख के माध्यम से आपको वायुमंडल (Atmosphere) के विषय में एक सामान्य अथवा मूलभूत जानकारी दी गई है। हमें उम्मीद है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा।


आपके सवाल और सुझावों का, हमें बेसब्री से हमेशा से इंतजार रहता है आप हमें अपने सवाल और सुझाव Comment कर सकते हैं या हमें E-Mail करके भी सूचित कर सकते हैं

महाद्वीपीय प्रवाह का सिद्धांत । Continental Drift Theory UPSC in Hindi

धन्यवाद !

जय हिंद जय भारत !

Find Class 10 MCQs Practice for the Board Examination.

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here