Struggle of Bhagwan Birsa Munda – Tribal Hero of Indian History

0
188
Struggle of Bhagwan Birsa Munda - Tribal Hero of Indian History
Struggle of Bhagwan Birsa Munda - Tribal Hero of Indian History by learners inside.

Struggle of Bhagwan Birsa Munda – Tribal Hero of Indian History

Struggle of Bhagwan Birsa Munda - Tribal Hero of Indian History
Struggle of Bhagwan Birsa Munda – Tribal Hero of Indian History by learners inside.

परिचय

निडर स्वाधीनता सेनानी और आदिवासी नायक बिरसा मुंडा का जन्म 15 नवंबर 1975 को मौजूदा झारखण्ड के खोटी जिले के उलिहातू गांव में हुआ था।

बिरसा छोटा नागपुर क्षेत्र के मुंडा जनजाति से थे। उन्हें प्रेम से धरती अब्बा कहा जाता था। उन्होंने अपने अनुयायियों को जनजातीय जनों की तरफ लौटने और अपनी परंपराओं का पालन करने के लिए प्रोत्साहित किया।

नारा

बिरसा मुंडा को विश्वास था कि स्वशासन ही जनजातीय अधिकारों की रक्षा करने का एकमात्र रास्ता है।

उन्होंने “अबुआ रात से तेरे जेना, महारानी राज टुंडू जना” का नारा दिया था, जिसका मतलब है “आओ महारानी का शासन समाप्त करें और अपना शासन कायम करें”। ये धारा उस समय बहुत लोकप्रिय हुआ जिसने बिरसा कि गुरिल्ला सेना को संगठित करने और छोटानागपुर क्षेत्र के विभिन्न भागों में ब्रिटिश सेना पर हमले करने में सहायता की।

योगदान

1890 के दशक के आखिर में बिरसा मुंडा ने सामंतवादी शासन प्रणाली को उखाडने के लिए कमर कस ली थी जिसे अंग्रेजों ने आदिवासी वन भूमि के लिए शुरू किया था।

इस प्रणाली के तहत अंग्रेजों ने अन्य राज्यों के लोगों को आदिवासियों की भूमि पर काम करने के लिए आमंत्रित किया और सहारा मुनाफा खुद हडपने लगे। इस प्रकार जमीन के मूल मालिक लाचार हो गए और उनकी आजीविका पर बुरा असर पडा।

मार्च 1900 में अंग्रेजों और गुरिल्ला सेना की लडाई के बीच चक्रधरपुर में ‘जाम को पे’ के जंगल में बिस्सा को गिरफ्तार कर लिया गया। कुछ महीने बाद हिरासत में ही उनका निधन हो गया।

Ganga River in Hindi: History, Route, Origin, Length, Tributaries, etc.

निधन

भारत के स्वतंत्रता संघर्ष का आदिवासी नायक 24 वर्ष की उम्र में 09 जून 1900 को शहीद हो गया।

उनकी मृत्यु के लगभग एक दशक बाद अंग्रेज “छोटा नागपुर टेनेंसी एक्ट” लाए, जिसके तहत आदिवासियों की जमीन गैर आदिवासियों को देने पर रोक लगा दी गयी। झारखंड राज्य का निर्माण वर्ष 2000 में बिरसा मुंडा की जयंती के अवसर पर ही हुआ।

About Mahatma Gandhi in Hindi – Father of the Nation

जनजातीय गौरव दिवस

भारत सरकार ने सन्‌ 2021 से हर बर्ष 15 नवंबर को भगवान बिरसा मुंडा की जयंती के उपलक्ष्य में ‘जनजातिय गौरव दिवस’ (‘जनजातीय गौरव दिवस’) मानने का निर्णय लिया है।

Madan Lal Dhingra UPSC in Hindi – Freedom Fighters of India

About Batukeshwar Dutt in Hindi- Freedom Fighters of India

You can mail or comment on your precious feedback.

जय हिंद जय भारत…!

Freedom Fighters of India

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here