Narayan Subbarao Hardikar – Freedom Fighters of India

32
Narayan Subbarao Hardikar - Freedom Fighters of India by Learners inside
Narayan Subbarao Hardikar - Freedom Fighters of India by Learners inside

Narayan Subbarao Hardikar – Freedom Fighters of India

सुब्बाराव हार्डिकर – आरंभिक जीवन

स्वाधीनता सेनानी डॉक्टर नारायण सुब्बाराव हार्डिकर का जन्म 26 अगस्त 1889 में धारवाड में हुआ था। उन्होंने कांग्रेस सेवा दल की स्थापना की थी। उनके पिता का नाम सुब्बाराव और माता का नाम यमुना बाईं था।

उन्होंने कलकत्ता के कॉलेजों फिजीशियंस एंड सर्जंस में मेडिसिन का अध्ययन किया।

उसके बाद हार्डिकर उच्च शिक्षा के लिए अमेरिका चले गए। अमेरिका में उनकी मुलाकात लाला लाजपत राय से हुई और वे उनके निकट सहयोगी बन गए।

Tanguturi Prakasam in Hindi – Freedom Fighters of India

डॉक्टर सुब्बाराव हार्डिकर – अमेरिका मे सक्रियता

हार्डिकर अमेरिका में कई राजनीतिक गतिविधियों में सक्रिय हो गए। वे हिंदुस्तान एसोसिएशन ऑफ अमेरिका के अध्यक्ष भी रहे। उन्होंने शिकागो में भारतीय विद्यार्थियों का सम्मेलन आयोजित किया। वे होमरूल लीग में भी शामिल हुए जिसकी स्थापना लाला जी ने की थी।

लाला जी के साथ हार्डिकर ने यंग इंडिया पत्रिका भी प्रकाशित की। अमेरिका और कनाडा में रहने के दौरान उन्होंने वहां रहने वाले भारतीयों को भारत के स्वाधीनता संघर्ष की जानकारी दी।

Satyamurthy and P. Krishna Pillai in Hindi – Freedom Fighters of India

हार्डिकर – स्वाधीनता आंदोलन

हार्डिकर ने स्वाधीनता संघर्ष के दौरान कई आंदोलनों में हिस्सा लिया। झंडा जुलूस में शामिल लोगों पर ब्रिटिश पुलिस के अत्याचार और राष्ट्रीय ध्वज के अपमान के विरोध में कांग्रेस ने झंडा सत्याग्रह आरंभ किया। हार्डिकर के नेतृत्व में ये आंदोलन नागपुर में शुरू हुआ। वे कई बार जेल गए।

इस दौरान डॉक्टर हार्डी करने ऐसे संगठन के बारे में सोचा जिसमें उत्तम चरित्र वाले अनुशासित और प्रशिक्षित युवा शामिल हो। इसका परिणाम 27 दिसंबर 1923 को कांग्रेस के काकीनाडा अधिवेशन में सेवा दल के गठन के रूप में सामने आया। सेवा दल ने नागरिक अवज्ञा आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

डॉक्टर हार्डिकर ने 1925 में मासिक पत्रिका वॉलेंटियर का प्रकाशन शुरू किया और पूरी तरह से सेवा दल के लिए समर्पित हो गए।

डॉक्टर हार्डिकर 1952 से 1962 तक दो बार राज्यसभा सांसद रहे। उन्हें 1958 में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया।

One of the Best Motivational Story In Hindi, ऐसा जीवन कहीं नहीं देखा होगा..।

मृत्यु

26 अगस्त 1975 को डॉक्टर हार्डिकर का निधन हो गया। उनकी जन्मशती की स्मृति में 1989 में डाक टिकट भी जारी किया गया।

Netaji Subhash Chandra Bose in Hindi – Freedom Fighters of India

You can mail or comment on your precious feedback.

जय हिंद जय भारत…!

Freedom Fighters of India

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here